Sunday, July 23, 2006

कभी सुख का समय बीता

कभी सुख का समय बीता, कभी दुख का समय गुजरा
अभी तक जैसा भी गुजरा मगर अच्छा समय गुजरा !

अभी कल ही तो बचपन था अभी कल ही जवानी थी
कहाँ लगता है इन आँखों से ही इतना समय गुजरा !

बहुत कोशिश भी की, मुट्ठी में पर कितना पकड़ पाए
हमारे सामने होकर ही यूँ सारा समय गुजरा !

झपकना पलकों का आँखों का सोना भी जरूरी है
हमेशा जागती आँखों से ही किसका समय गुजरा !

उन्हीं पेडों पे फिर से आ गए कितने नए पत्ते
उन्हीं से जैसे ही पतझार का रूठा समय गुजरा !

हमें भी उम्र की इस यात्रा के बाद लगता है
न जाने कैसे कामों में यहाँ अपना समय गुजरा !
-कमलेश भट्ट कमल

1 comment:

ims said...

respected kamal ji,
aap ki gajal padhi bahut pasand aai.achchha laga aap ke bare main jaan kar.apane ander ek khusi mahsoos kar raha hoon ki main itine pratibhashali gajal kaar se mila bhale ye milan science ke avishkaro se hi sambhab ho paya ho.
main aap ke lekh padhata rahooga.
meri shubhkamna aap ke saath hai.